Thursday 29 October 2015

रुटीन विषय अब सामयिक नहीं रहे—सुभाष नीरव



कथाकार-अनुवादक सुभाष नीरव से डॉ (श्रीमती) नीरज शर्मा की बातचीत

कथा साहित्य के बीच लघुकथा की वर्तमान स्थिति, स्थान उसके उन्नयन  से जुड़े विभिन्न पहलुओं पर वरिष्ठ कथाकार व पंजाबी-हिन्दी अनुवादक श्री सुभाष नीरव जी से वनिका पब्लिकेशन्स की वरिष्ठ संपादिका डॉ (श्रीमती) नीरज शर्मा ने एक लम्बी बातचीत रिकॉर्ड की। यहाँ प्रस्तुत हैं उस वीडियो रिकॉर्डिंग के कुछ महत्वपूर्ण अंश :

सुभाष नीरव
डॉ॰ नीरज शर्मा
नीरज शर्मा—नीरव जी, आठवें दशक को लघुकथा का स्वर्ण काल कहा जाता है। उस काल की तुलना में आप आज की लघुकथा को कहाँ खड़ा पाते हैं?
सुभाष नीरवमैं पाता हूँ कि वर्तमान में जो लघुकथाएँ लिखी जा रही हैं वे अपने नए समाज, नए समय के दबाव के मद्देनज़र लिखी जा रही हैं। जब समय में बदलाव आता है तब समाज और जीवन से जुड़े यथार्थ में भी बदलाव आता है। पहले की तुलना में यथार्थ अब जटिल हुआ है, बल्कि  जटिलतर होता जा रहा है। जब रचनाकार की हैसियत से मुठभेड़ जटिलतर होते जा रहे इस यथार्थ से होती है, तो हमारी रचनाओं में एक दबाव होता है, जो रचना के आकार, प्रकार, सोच, मंतव्य में भी अंतर लाता है। आज के हिसाब से देखेंगी तो उस दौर की लघुकथाओं में से आप कई लघुकथाओं को निकालकर बाहर कर देंगी। आज की विसंगतियाँ चुनौती बनकर खड़ी हैं हमारे सामने। वैश्वीकरण, भौगोलिक परिस्थितियाँ, बाज़ारवाद, आर्थिक मंदी जैसे भीमकाय विषयों का दबाव है आम आदमी पर एक संवेदनशील लेखक पर भी। अब नए विषय हैं , रुटीन विषय सामयिक नहीं रहे। जटिल यथार्थ को यदि आप पुराने फ्रेम में कहना चाहेंगे तो फ्रेम छोटा पड़ेगा।
नीरज शर्माआपने क्या प्रयोग किए हैं इन जटिल विषयों को लघुकथा में ढालने सम्बन्धी…?
सुभाष नीरवमेरी एक लघुकथा है –‘मकड़ी जब मैंने यह लिखी तब मुझसे कहा गया कि इतने विस्तृत विषय को लघुकथा वहन नहीं कर पाएगी। मैंने कहा प्रयोग करने में क्या हर्ज़ है! मैंने प्रयोग किया आधुनिक क्रेडिट कार्ड जैसे बड़े बाज़ारवाद के विषय को सफलतापूर्वक लिख पाया लघुकथा के फ्रेम में। तात्पर्य यह है कि आज के जटिल विषयों को लघुकथा में शामिल करने के लिए प्रयोग करने की हिम्मत करना ज़रूरी है। लघुकथा यही प्रयोग आज के समय में माँग रही है। वहाँ यह नहीं देखना है कि लघुकथा अधिक शब्दों में लिखी है या  दो खंडों की बात क्यों गई मैं मानता हूँ कि  लघुकथा—संक्षिप्तता सूक्ष्मता में बड़ी बात संवेदना के स्तर पर प्रगट करना है। जब नए दबाव आते हैं तब यदि आप इन विषयों  को सहजता से लघुकथा में कह सकते हैं तो अवश्य प्रयोग करना चाहिए।  नए लोग यदि इस काम को करते हैं तो नाक—भौं नहीं सिकोड़ना चाहिए, आलोचना नहीं करनी चाहिए; बल्कि उन्हें स्वीकार करना, प्रोत्साहित करना चाहिए। तभी हम भविष्य की लघुकथा में नया चेहरा, नई शक्ल, नए अर्थ तलाश पाएँगे।
नीरज शर्माआपने पंजाबी हिन्दी की लघुकथा का तुलनात्मक अध्ययन किया है। पंजाबी लघुकथा के सामने हिन्दी की लघुकथा को आप कहाँ खड़ा पाते हैं?
सुभाष नीरवमेरी “मां बोली” पंजाबी है। जब मैंने लिखना शुरू किया तब पंजाब में ऐसे समर्पित लेखक थे जो केवल लघुकथा ही लिख रहे थे लघुकथा के हित की बात ही करते थे। वे स्तंभ कहलाते थे पंजाबी लघुकथा के। डॉ श्याम सुन्दर दीप्ति , श्याम सुन्दर अग्रवाल, हमदर्द वीर नौशहरवी, सुलक्खन मीत, शरण मक्कड़ वगैरह। ये सिरमौर थे लघुकथा विधा के। उन्होंने समर्पित भाव से नई पीढ़ी तैयार की लघुकथा के क्षेत्र में।  वहीं हिन्दी में यदि पिछले दस साल में देखें तो मुझे दो लघुकथाकार बड़ी मुश्किल से मिलते हैं जिनके अपने एकल लघुकथा संग्रह आए हों। यथार्थ के धरातल पर नए लघुकथाकर तैयार करने के लिए कोई खास काम नहीं हो रहा है।
पंजाब में लघुकथा को लेकर राज्य, जिला शहरी स्तर पर कार्यशालाएँ आयोजित की जाती रही हैं, जिसका हिन्दी में अभाव देखने को मिलता है। यहाँ हिन्दी लघुकथा पंजाबी लघुकथा से कहीं पीछे है।
हिन्दी में नए लेखकों ने पुराना लेखन पढ़ा नहीं है, इसलिए वो बहुत अच्छा नहीं लिख पा रहे हैं।
नीरज शर्माक्या आप मानते  हैं, आजकल सोशल मीडिया ब्लॉग फेसबुक के माध्यम से बाढ़-सी गई है लघुकथा लेखन में?
सुभाष नीरवमैं ऐसा नहीं मानता। जो बाढ़ अस्सी के दशक में थी, वो आज नहीं है। पत्रिकाएँ भी मददगार थीं उन दिनों। आधुनिक प्लेटफॉर्म को देखकर लगता है कि बाढ़-सी गई है, किन्तु वह बाढ़ नहीं है, वह लेखन का स्तर नहीं है। यह ऐसा माध्यम है जहाँ कोई संपादक ही नहीं है। फेसबुक पर ऐसा नहीं है कि अच्छी लघुकथाएँ नहीं रही हैं , पर बहुत कम संख्या में अच्छी लघुकथाएँ रही हैं।
नीरज शर्माक्या उनके पास अच्छे लेखन के लिए पैमाने नहीं हैं या वो उन्हें जानते नहीं हैं?
सुभाष नीरव—हम यह नहीं कह सकते कि नए लेखकों के पास लेखन के लिए कोई पैमाने नहीं है।
लघुकथा ने इतनी लम्बी यात्रा की है, इतने पैमाने बन चुके हैं, मापदंड तय हो चुके हैं कि यदि किसी में लेखन का जज़्बा है तो उसे बरकरार रखने के लिए उसे इतिहास में जाना जरूरी है।  वर्तमान के आगे  भविष्य पीछे अतीत है। पीछे इतिहास है भविष्य की ओर जाना है।  वर्तमान में जीते व्यक्ति को यह जानना भी जरूरी है कि हमें विरासत में क्या मिला है। नए लघुकथाकारों के पास पैमाने हैं, पर वो उन्हें जानना ही नहीं चाहते। वो तुरत-फुरत बस लिख डालना चाहते हैं।
नीरज शर्मानए लघुकथाकारों के लिए आप क्या संदेश देना चाहेंगे?
सुभाष नीरवनए लोगों में कम उम्र ही नहीं पचास-साठ की उम्र के व्यक्ति भी हैं। साहित्यकार राजेन्द्र यादव जी कहा करते थे कि  साहित्य की दुनिया में प्रवेश के लिए दरवाज़ा बहुत छोटा होता है, इसमें झुककर ही निकलना पड़ता है, पर नई पीढ़ी सीधा निकलना चाहती है,  झुकना नहीं चाहती। वो नहीं चाहती कि कोई अग्रज उन्हें रोकें, टोकें। उनमें धैर्य या संयम नहीं है। यदि वो अपने अंदर यह माद्दा पैदा कर लें, थोड़ा पिछला इतिहास पढ़ लें, अग्रजों की बातों का संज्ञान लें, तो मुझे उनकी रचनात्मकता में कोई संदेह नहीं है।
नीरज शर्मालघुकथा लेखन में सुधार के लिए क्या किया जाना चाहिए?
सुभाष नीरवइसके लिए नियमित रूप से, देश के विभिन्न प्रांतों में, कार्यशालाओं का आयोजन किया जाना चाहिए। यहाँ विस्तार से लघुकथा लेखन के पैमानों, मापदंडों के बारे में विचार साझा किए जाने चाहिए। लघुकथा की पुस्तकों के प्रकाशन को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। नए लेखकों को अग्रजों द्वारा उचित मार्गदर्शन मिले तो कई अच्छे लघुकथाकार तैयार हो सकते हैं।

                                                                 साभार : 'अविराम साहित्यिकी' (लघुकथा विशेषांक,  अक्टूबर-दिसम्बर 2015)
                                                 
सम्पर्क डॉ॰ (श्रीमती( नीरज शर्मा, सरल कुटीर,  आर्य नगर,  नई बस्ती बिजनौर-246701   मो-09412713640

                          सुभाष नीरव, आर. ज़ेड. एफ,  30ए, दूसरी मंज़िल, प्राचीन काली माता मंदिर  के  पीछे, नाला पार, सृष्टि केमिस्ट के ऊपर, वेस्ट सागरपुर, नई दिल्ली – 110046 मो-09810534373


2 comments:

अर्चना तिवारी said...

अत्यंत ज्ञानवर्धक चर्चा, सुभाष नीरव जी के विचार हम नवांकुरों के लिए अत्यंत उपयोगी हैं, इस चर्चा कर लिए आदरणीया नीरज जी, आदरणीय सुभाष जी एवं आदरणीय बलराम जी का बहुत-बहुत शुक्रिया |

Karuna Saxena said...

ज्ञानवर्धक चर्चा