Thursday, 29 March, 2018

झमेला 'झलमला' का / बलराम अग्रवाल









पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी
छत्तीसगढ़ के राजनांदगाँव के खैरागढ़ नामक कस्बे में 27 मई 1894 को जन्मे पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी का नाम हिन्दी साहित्य के निर्माताओं में गिना जाता है। सन् 1916 में  'सरस्वती' में छपी उनकी लघ्वाकारीय कथा-रचना 'झलमला' को हिन्दी की प्रारम्भिक 'लघुकथाओं' में गिना जाता है; हालाँकि लघ्वाकारीय होने के बावजूद इस रचना का शिल्प 'लघुकथा' की बजाय 'कहानी' का ही है। लेकिन बीसवीं सदी के उन प्रारम्भिक वर्षों में कथा-साहित्य के बीच क्योंकि 'लघुकथा' की अवधारणा ने जन्म नहीं लिया था, इसलिए तब की अधिकतर (यह भी कहा जा सकता है कि लगभग सभी) लघ्वाकारीय कहानियों का शुमार 'लघुकथा' में किया जाता रहा है। आगे, जैसे-जैसे लघुकथा-साहित्य समृद्ध होगा, वैसे-वैसे बहुत सम्भव है कि वह पूर्वकालीन बहुत-सी लघ्वाकारीय कहानियों से पल्ला झाड़ ले।

इधर, सन् 2007 में वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली से ।8 भारी-भरकम खण्डों में 'बख्शी रचनावली' सामने आई है। इसके खण्ड 2 में बख्शी जी द्वारा लिखित 'कथा-साहित्य और बाल-कथाएँ'  संकलित हैं। इसमें प्रकाशित कथा रचनाओं से पता चलता है कि 'झलमला' नाम से ही बख्शी जी ने अपनी प्रारम्भिक कहानियों का संग्रह भी प्रकाशित कराया था। लेकिन कहानी संग्रह में संग्रहीत 'झलमला' का पाठ 'सरस्वती' में प्रकाशित 'झलमला' के पाठ की तुलना में काफी विस्तार पाया हुआ है। रचनाओं का ऐसा विस्तार बख्शी जी से पहले भी किया जाता रहा है। स्वयं बंकिमचंद्र चटोपाध्याय का 'आनंदमठ' इसका उदाहरण है। एक छोटी कहानी से चलता हुआ 'आनंदमठ' पहले बड़ी कहानी बना, उसके बाद छोटा उपन्यास और आज वह एक बड़े और महान उपन्यास के रूप में हमारे सामने है।  से॰ रा॰ यात्री तो खुलकर कहते ही रहे हैं कि उनके सभी उपन्यास उनकी किसी न किसी कहानी का विस्तार हैं। हमारे युग में भी कुछेक कथाकार अवश्य मिल जायेंगे जिन्होंने अपनी लघुकथाओं को कहानी का अथवा/और कहानियों को लघुकथा का रूप देकर दोनों विधाओं में पैठने का सुख भोगा हो।

क्या 'झलमला' के ये पाठ हमें 'सही लघुकथा वह है जिसे प्रयास करके भी कहानी जितना विस्तार न दिया जा सके' जैसे अपने पूर्व वक्तव्यों पर विचार करने का बाध्य कर रहें हैं? या फिर अभी, कुछ ही दिन पहले अपनी फेसबुक वॉल पर लिखी भाई श्याम सुन्दर अग्रवाल की चिंता को साक्षात् हमारे सामने ला खड़ा कर रहे हैं कि देखो, लघुकथा की काया में लिखी कहानी कभी भी कहानी की ओर पलटी मार सकती है।

जो भी हो, 'झलमला' के ये दोनों ही पाठ यहाँ प्रस्तुत हैं ताकि लघुकथा के चिंतक, विचारक, आलोचक, शोधार्थी  तथा शोध-आचार्य इस रचना के 'लघु' और 'विस्तृत' दोनों पाठों से परिचित हो, उस पर अपनी राय प्रकट कर सकें।

'झलमला' का 'सरस्वती' 1916 में प्रकाशित पाठ, चित्र-1

'झलमला' का 'सरस्वती' 1916 में प्रकाशित पाठ, चित्र-2
 
'झलमला' का कहानी संग्रह 'झलमला' में प्रकाशित पाठ, चित्र-1

'झलमला' का कहानी संग्रह 'झलमला' में प्रकाशित पाठ, चित्र-2

 
'झलमला' का कहानी संग्रह 'झलमला' में प्रकाशित पाठ, चित्र-3
 ई-मेल:2611ableram@gmail.com

Thursday, 8 March, 2018

हिंदी लघुकथा और आलोचना के ढोंग - ढठुरे / डॉ.पुरुषोतम दुबे


चित्र ; बलराम अग्रवाल
डॉ॰ पुरुषोत्तम दुबे
हिंदी लघुकथा के तारतम्य में आलोचना के पक्ष को लेकर अपने मन में बड़ी वैचारिक उथल-पुथल का अनुभव कर रहा हूँ। सोचता हूँ, लघुकथा पर आलोचनाएँ तो आ रही हैं, मगर ज्यादातर आलोचनाएँ बेसिर-पैर  वाली दिखाई देती हैं। सोचिए, ऐसी भी आलोचना किस काम की, जो आलोचना के नाम पर आलोचना तो है, बाकी आलोचना में ऐसे तथ्यों की कमी है, जिन पर शोध प्रकट दृष्टि डालकर उन बिन्दुओं की पड़ताल की जा सके, जिनके सहारे से लघुकथा की आलोचना के मूल्य खोजे जा सकें।
मेरे साथ अक्सर यह घटता रहा है कि जब कभी मैं किसी लघुकथाकार की लघुकथाओं पर लिखी गई आलोचना पढ़ता हूं ,और इत्तफाकन उस लघुकथाकार की लघुकथाएँ भी पढता हूँ, तब मुझे तदविषयक की हुई  आलोचना के स्वरूप पर तरस आता है, 'भई, यह आलोचना हुई कि लघुकथाकार से तथाकथित आलोचक द्वारा दोस्ती का
निर्वहन-शर्म-संकोच-डर!
ऐसे में समझ नहीं पड़ता कि लघुकथाकार की लघुकथा बड़ी है कि लघुकथाकार के आगे आलोचक का कद छोटा है? मुखड़ा भाँपकर तिलक लगाने की बात लघुकथा के वुजूद को धक्का पहुँचा रही है । इस आधार पर आलोचक यह समझ ले कि वह आलोचना में पारंगत है तो यह अपने हाथ से अपनी पीठ थपथपाने जैसा होगा!
वर्तमान में लघुकथा लेखन में जिस ढंग की रचनात्मक टूट-फूट देखने को मिल रही है और जिस प्रकार से लघुकथा -लेखन-कार्य बेलगाम होता जा रहा है, इसकी वजह यही है कि लघुकथा के पास निष्ठुर आलोचना का सर्वमान्य पारदर्शी दर्पण नहीं है।
मैं मानता हूँ, किसी बँधे-बँधाए पर चलकर कोई मौलिक सृजन सम्भव नहीं हो सकता; लेकिन इसका आशय यह कदापि नहीं कि रचनात्मकता रसूख तोड़कर कोई रचना की जाय; और रचित-रचना के पक्ष में नया प्रयोग के ऐलान का फतवा जारी कर उस रचना को आलोचकों के प्रहारों से सुरक्षा की मांद में छुपा लिया जाये !
प्रयोगों के नाम पर लघुकथा लेखन का जो गैरजिम्मेदाराना चस्का सामने आ रहा है, उस चस्के की हठधर्मिता लघुकथा लेखन के सही मायने को खारिज करती दिशाहीन दिशा में लघुकथा के मौजूदा अस्तित्व को सुपुर्द-ए-खाक कर देगी ।
तकरीबन तीन हजार से अधिक लघुकथाओं को पढ़ चुकने का अथक माद्दा, लघुकथा विषयक मेरी दिलचस्पी का निर्भीक गवाह है, ताहम भी मैं लघुकथा की आलोचना के सिलसिले में अपना अनुभव थोपना नहीं चाहता हूँ। मगर लघुकथा के एक जागरूक पाठक के नाते लघुकथा के पक्ष में खड़े होकर लघुकथा की मान-प्रतिष्ठा पर बेबाकी से बोल तो सकता हूँ।
वर्तमान में लघुकथा पर चारों ओर से अपने-अपने अनुभवों की भट्टी से पकाकर चर्चाएँ सामने आ रही हैं, गोकि लगने लगा है कि एक गहरा असंतोष लघुकथाओं के तारतम्य में पसरा हुआ है जो लघुकथा के तरण-तारण का सवाल बनकर लघुकथा के प्रति हमदर्दी रखने वालों की छाती पर मूँग दल रहा है । अतएव आज सभी इस बात के लिए आतुर प्रतीत हैं कि 'बस लघुकथा का वुजूद येन-केन-प्रकारेण बचा रहे।
सवाल लघुकथा की आलोचना को मुखर करने बाबत था । लघुकथा के प्रति आलोचना की मुखरता का यह तिलिस्म मात्र 'खुलजा सिम सिम' जैसे मिथकीय उवाच से संभव नहीं हो सकेगा प्रत्युत् लघुकथा के हितग्राहियों को
सलाह-मशविरा के लिए एक जाज़म पर आना होगा । लघुकथा - लेखन समान रूप से हिन्दी और हिंदीतर प्रान्तों से आ रहा है, फलतः लघुकथा और लघुकथा -आलोचना पर बहस-मुबाहिसा का दायरा बढ़ा हुआ है यानी लघुकथा और लघुकथा -आलोचना पर ' टाॅस ' करने सरीखी स्थिति कदापि नहीं है।
अब यह भी मिथ्या बात होगी कि आज जब लघुकथाएँ ढेरों से लिखी जा रही हैं, फिर लघुकथा पर आलोचना का सवाल क्योंकर ?
ऐसे सवाल का जवाब भी यही है कि लघुकथा - लेखन में लघुकथाकारों की आश्चर्यजनक रूप से बढ़ती भीड़ और तादाद में लघुकथा की आमद लघुकथा पर एक जरूरी आलोचना की दरकार की मुन्तजिर है। मैं यह भी नहीं कहता हूं कि लघुकथा पर आलोचना के मापदंड लघुकथा - लेखन प्रतियोगिता पर अंकुश लगाने में अपनी कारगुजारी से लघुकथा की आमद को ही रोक देंगे; प्रत्युत् मेरे कहने का मतलब यह है कि लघुकथा पर  आलोचना के तेवर की ग्राह्यता जितनी बढ़ेगी, लघुकथा का लेखन सौष्ठव सटीक और विश्वसनीय भूमिका में दिखाई देने लगेगा ।
लघुकथा की बेहतरी के लिए एक मशविरा यह भी देना चाहता हूँ कि आने वाले समय में जिसके जो भी लघुकथा - संकलन आएँ, अपने संकलन के प्रस्तोता अपने संकलनों की बतौर भूमिका में अपने चिंतन से पगाए गए अपनी जारी होने वाली लघुकथाओं के तारतम्य में आलोचना के कतिपय बिन्दु पर विचार - प्रेषण अवश्य करें।
गो कि उसका लघुकथा - लेखन उसके लघुकथा लेखन के तई किन-किन बिन्दुओं पर समीक्षकों का ध्यान चाहता है , उसकी समीक्षकों से इस ढंग की आग्रहशीलता ही समीक्षा का जरूरी मापदंड पैदा करने की पहल करेंगी ।मतलब यह है कि लघुकथाकार समझता है कि उसने अपनी लिखी लघुकथा में एक पृथक प्रकार का कथ्य उठाया है ,जो लघुकथा का 'प्लाट' भी कहा जा सकता है,उसके द्वारा अपेक्षित लघुकथा की बिन्दुवार आलोचना बहुत संभव है लघुकथा लेखन विषयक आवश्यक मापदंड का मसौदा तैयार करने में हाजिर मिलेगी ।
साहित्यिक विधाएँ अनेक हैं, बावजूद इसके नानाविध विधाओं की आलोचना का रूप बहुतेरे आलोचनात्मक कथ्यों के मुआमलों में यकसां मिलेगा । बात अलबत्ता पेंचदार है, लेकिन इस मुद्दे पर गहन मनन के बाद एक जगह पर आकर मतैक्य का होना निश्चित सिद्ध होगा ।
                                                         --'शशीपुष्प', 74 जे / ए, स्कीम नंबर 71, इन्दौर / मोबाइल 9329581414

Wednesday, 21 February, 2018

हिन्दी लघुकथा में राष्ट्रीय चेतना / डॉ. पुरुषोत्तम दुबे

डॉ॰ पुरुषोत्तम दुबे
राष्ट्र एक  बहुआयामी सांस्कृतिक अवधारणा है। जिसका आभ्यान्तरिक रचाव राष्ट्र में वासित मानवता, धार्मिक-सरोकार, रीति-रिवाज, रहन-सहन, भाषागत व्यवहार, वैचारिक-विनिमय इत्यादि कारकों से परिपूरित है। उक्त सांस्कृतिक विषयक विभिन्न कारकों की सजगता ही राष्ट्र का शरीर है।
      राष्ट्र का स्वरूप स्थायी न होकर परिवर्तनशील बना रहता है। सन् 1947 से लगायत अद्यतन अनेकानेक विकासशील रास्तों पर डग भरते हुए भारत-राष्ट्र का वर्तमान रूप हमारे सामने है। गोया कि तरक्कियों की तस्वीरें, सभ्यताओं के लवाजमें, अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धाओं के मायने, विस्तृत हुए विशाल नगरों के कायावी/मायावी आकर्षण, यह सब ऐसी बातें हैं, राष्ट्र के तारतम्य में जिन पर गम्भीरता से बोला जा सकता है। बरअक्स इसके लिखा भी जा सकता है। लेकिन अधिकांशत: प्रामाणिकता बतौर लेखन के आती है।
      किसी भी राष्ट्र का प्रतिबिंब उस राष्ट्र के साहित्य में दमकता है। कविता, कहानी, उपन्यास, नाटक, निबंध इत्यादि हिन्दी साहित्य की प्रचलित विधाओं के अतिरिक्त वर्तमान में हिन्दी-लघुकथा-विधा सिरमौर बनी हुई है। हिन्दी साहित्य की अन्य सद्यः स्फुट विधाओं की भाँति हिन्दी लघुकथा भी अपने तट से अपने ‘वतन’ का पता देने लगी है। विशाल राष्ट्र की अस्मिता को दर्शाने में जहाँ हजारों पन्नों में लिखा साक्ष्य भी कमतर जान पड़ रहा है, वहाँ हिन्दी लघुकथा लेखन की छोटी-सी धरती पर विशाल राष्ट्र का कैनवास रचती मिल रही है।
      ऐतिहासिक क्रम में भारतेन्दु बाबू का स्रोत पकड़कर हिन्दी की प्रायः सभी मान्य विधाओं की विकासगत धाराओं का अध्ययन होता रहा है, लेकिन आधुनिक काल को पल्लवित करने में एक बड़ा नाम मुंशी प्रेमचंद का आता है, जिनके कथा साहित्य में बहुतायत रूप में राष्ट्रीय धड़कनों का धड़कता आभास केन्द्रित है। इस दृष्टि से हिन्दी लघुकथा में राष्ट्रीय चेतना को मुखरित बनाने के क्रम में कथा सम्राट प्रेमचंद अग्रगण्य है। प्रेमचंद की लघुकथा ‘राष्ट्र का सेवक’ अपनी मूल चेतना में जात-पाँत, धर्म-अधर्म, ऊँच-नीच के घिनौने भाव को दरकिनार करती हुई भारतीय राष्ट्रीयता का आदर्श विवेचित करती मिलती है। लेकिन समभाव और समानता का उत्कट भाव जगाने वाले उद्घोषक की अपनी बेटी अछूत को अपना जीवन साथी बनाना चाहती है, तो उद्घोषक पिता अपनी बेटी के निर्णय से मुँह फेर लेता है। इस तरह राष्ट्रीय चेतना की डगर पर बढ़ाया पहला कदम ही चोटिल हो जाता है। आदर्श बघारने वालों की कथनी और करनी का अन्तर प्रस्तुत करने वाली ‘राष्ट्र का सेवक’ लघुकथा अंजाम गिनाने में भले ही नाकाम सिद्ध हुई मिलती है, लेकिन असमानता के आकाश में समभाव का एक छेद करने में पत्थर जरूर उछालती है।
      प्रेमचंद की दूसरी लघुकथा ‘गमी’ है, जो गहन-विषाद के साथ भारतीय राष्ट्रीय चेतना का एक ऐसा परिशिष्ट खोलती है जिस पर अमल करके एक और जहाँ बढ़ती जनसंख्या की बाढ़ को रोका जा सकता है, वहीं दूसरी ओर सीमित पारिवारिकता के आनंद को बटौरा जा सकता है। प्रस्तुत ‘गमी’ लघुकथा की तरंग आधुनिक समय के ‘हम दो हमारे दो’ रूपी किनारे को पोषित करती प्रतीत होती है। वस्तुतः प्रस्तुत लघुकथा राष्ट्रीय चेतना का सार्वकालिक रूप बुनती मिलती है। परिवार में तीसरी संतान का आना, न केवल उसके पोषण के लिहाज से आर्थिक संकट पैदा कर देता है, अपितु एक तरह से तीसरी संतान के जन्मते ही पारिवारिक आनंद की मृत्यु हो जाती है।
      हिन्दी लघुकथा क्षेत्र में व्यापक लेखन बीसवीं सदी के आठवें दशक से सामने आता है। आपातकाल के बाद भारतीय राष्ट्रीयता का गौरवधारी परिवेश स्थान-स्थान से इस तरह खंडित हुआ, जिनसे उत्पन्न दरारों में कहीं साम्प्रदायिकता का अप्रीतिकर रूप, कहीं राजनैतिक स्वार्थपरता, कहीं असीमित भ्रष्टाचार, कहीं मानवीय आदर्शों का अवमूल्यन, जैसी अनेक दुरावस्थाएँ पनपीं जिनसे भारतीय राष्ट्रीयता का उत्स धराशाही होता गया। ऐसे जटिल मुकामों से संश्लिष्ट होकर हिन्दी लघुकथा लेखन के पटल पर कई चिन्तन परक लघुकथाकारों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई, जिनमें एक नाम डा. कमल चोपड़ा का आता है। कमल चोपड़ा की अनेक-अनेक लघुकथाऐं साम्प्रदायिकता के उलट सामाजिक समभाव का आदर्श रूप स्थापित कर भारतीय राष्ट्रीय चेतना का नया अध्याय खोलती है। कमल चोपड़ा की अनेक लघुकथा ‘पवित्र स्थान’ समाज की फिजाँ बिगाड़कर राजनैतिक तौर पर रोटियाँ सेंकने वाले उन्हीं धर्मावलम्बियों को दोषी ठहराती है, जो अपने ही धर्म के मन्दिर के सामने जानवर के कटे हुए अंगों को फेंक देते हैं। लेकिन मंदिर का सहिष्णु पुजारी  मंदिर में आने वाले दर्शनार्थ भक्तों के आगमन के पूर्व ही मंदिर के आगे पड़े जानवर के अंगों को उठाकर नदी में प्रवाहित कर राष्ट्रीय चेतना के उज्जवल पक्ष को उद्घाटित करता है।
      लघुकथाकार मधुदीप की लघुकथा ‘तुम इतना चुप क्यों हो दोस्त!’ राष्ट्र की प्याली में अराजकताओं की उबाल खाती कॉफी का अरुचिकर स्वाद प्रस्तुत करती है। देश की गत्र्त में जाती अर्थव्यवस्था, देश को लूटकर खाने वाले नेतागण, हमारे सैनिकों के सिर काटते हुए दुश्मन और देश में पनपते हुए भ्रष्टाचार को गिनाते हुए वर्तमानकालिक राष्ट्रीय मानसिकता में अराजकता के विरूद्ध चेतना जगाती मिलती है।
      डॉ. अशोक भाटिया की लघुकथा ‘देश’ एक अलग प्रकार की चेतना का आयाम रचती है। पाकिस्तान से हुए दो युद्ध की विभीषिकाओं के सदमें से आज की पैंसठ-सत्तर साल की पीढ़ियाँ एकबारगी उबर चुकी हैं लेकिन अपने देश में लड़की के साथ बस में हुई दरिन्दगी की खबर एक वृद्ध स्त्री को हिलाकर रख देती है। यहाँ राष्ट्रीय चेतना का स्वर मानवीय संवेदनाओं के बूते से प्रकट होता है।
      डॉ. बलराम अग्रवाल की अनेकानेक लघुकथाओं में राष्ट्रीय चेतना के स्वर भास्वरित हुए हैं। उनकी ‘खोई हुई ताकत’ लघुकथा राष्ट्रीयता के पक्ष में जोश और जुनून के साथ खड़ी मिलती है। लघुकथा का नायक मसूद मियाँ खोई हुई ताकत का शर्तिया इलाज करने वाले एक डाक्टर के क्लीनिक में आशापूर्ण कदमों से दाखिल होता है। वह डाक्टर से नपुंसकता का नही प्रत्युत वृद्धावस्था की वजह से शिथिल पड़े अपने जज्बे का इलाज कराना चाहता है कि बहत्तर बरस के हो चुकने के बाद भी वह उन अराजकताओं से लड़ सके जो आज भी देश को गुलाम बनाई हुई है। बलराम अग्रवाल की लघुकथा ‘गुलमोहर’ प्रतीक रूप में वह सब कहती है कि आजादी के इतने बरस बाद भी भारतीय राष्ट्रीयता का वह मुखर रूप हमारे सामने नहीं है। जिसको देखने में शहीदों ने बलिदान किये हैं। बलराम अग्रवाल की एक अन्य लघुकथा ‘यह कौन सा मुल्क है’ जो बताती है कि हमारा वर्तमान राष्ट्र एक ऐसी भीड़ है जो मस्तिष्क के उपयोगी बूते से नही अंगों-प्रत्यंगों से चलायमान है, जहां चेतना नही मगर दिशाहीन दिशाओं में मस्तिष्क विहीन धड़ों की रेलमपेल है। कोई मंसूबा कारगार नही है। राष्ट्र केवल अंधों की बेमतलब की दौड़ रह गया है।
      राष्ट्रीय चेतना से प्लावित अशोक जैन की लघुकथा ‘पैंतरे’ चुनाव के मौसम में किराये पर हल्ले करने वाली भीड़ को इंगित करती है। राजकुमार निजात की ‘ब्लास्ट’ लघुकथा नेताजी का जन्मदिन स्कूल में बालकों के मध्य मनाने की दूषित परंपरा को रेखित करती है, ताकि आज के बच्चे कल के नागरिक न बनकर नेताजी की फौज के रूप में दिखाई पड़े। श्याम बिहारी ‘श्यामल’ की लघुकथा ‘राजनीतिज्ञ’ डाकू से नेता बने व्यक्ति पर केन्द्रित है ध्वनित करती है कि डाकू के रूप में लूट-खसौटकर जंगल में छुपने से बेहतर है कि नेता के रूप में जनता को लूटकर एशोआराम से शहर में रहा जा सकता है। प्रतापसिंह सोढ़ी की लघुकथा ‘दंगा-फसाद’ ऐसे मौका परस्त लोगों को केन्द्र में रखकर लिखी गई है जो परदे के पीछे से राष्ट्रीय अस्मिता को विखण्डित करने का खेल खेलते हैं। डॉ. शकुन्तला किरण की लघुकथा ‘इमरजेंसी में राष्ट्रीय चेतना के भाव को जगाया न जाकर थोपे जाने की बात होती है, ‘‘जीजी, कल पन्द्रह अगस्त है, स्कूल में कुछ बोलना है, आजादी के बारे में कुछ रटवा दो।’’
 संपर्क : डॉ. पुरुषोत्तम दुबे, शशीपुष्प, 74-जे/ए, स्कीम नं. 71, इन्दौर-452009 (म.प्र.)
मो.नं. 9407186940/9329581414

Sunday, 18 February, 2018

मुट्ठी में सूर्य को उतारने की क्षमता रखती है लघुकथा—चित्रा मुद्गल



कथाकार चित्रा मुद्गल
डॉ लता अग्रवाल की वरिष्ठ—कथाकार श्रीमती चित्रा मुद्गल जी से बातचीत                                  [वरिष्ठ कथाकार चित्रा मुद्गल ने आठवें-नौवें दशक में काफी लघुकथाएँ लिखीं जो कथा-पत्रिका 'सारिका' आदि में स्थान पाती रहीं। उनकी लघुकथाओं का संग्रह 'बयान' सन् 2003 में भारतीय ज्ञानपीठ से प्रकाशित हो चुका है। एक सफल

उपन्यासकार के रूप में विख्यात होने के बावजूद चित्रा जी के विचार में 'लघुकथा' महत्वपूर्ण और प्रभावशाली कथा-विधा है। पिछले दिनों भोपाल निवासी डॉ॰ लता अग्रवाल ने उनसे लघुकथा से जुड़े विभिन्न बिंदुओं पर बात की थी, जो योगराज प्रभाकर जी के संपादन में इसी माह छपकर आई अर्द्धवार्षिक लघुकथा-पत्रिका 'लघुकथा कलश' में प्रकाशित हुई है। उस पूरी बातचीत को हम साभार यहाँ शेअर कर रहे हैं।—बलराम अग्रवाल]                                                           
डॉ लता अग्रवाल - कहा जाता है सुंदर स्त्री से गुफ्तगू करने का नाम ग़जल है। इसी तर्ज पर आप लघुकथा के लिए एक पंक्ति में क्या कहेंगी ?
दायें से —श्रीमती चित्रा मुद्गल, श्रीमती लता अग्रवाल, श्रीमती ममता कालिया
चित्रा मुद्गल जी – ‘किसी भी व्यक्ति के मन का अंतर्द्वंद है : लघुकथा|’ लघुकथा वो बैचेनी है, वो पीड़ा है जो दूसरों को यंत्रणा में देखकर उभरती है | अगर वो उस पीड़ा को व्यक्त करने के लिए शब्दों के गली-गलियारों को नाप सकता है तो वो बहुत कम शब्दों में लिखी जाने वाले लघुकथा को, उसकी दृष्टि को इतना विस्तार दे सकता है कि उसे पढ़ते हुए किसी भी पाठक को यह महसूस हो कि लेखक ने तो उसके अंतर्मन के दर्द के कई-कई मीलों के सफर को तय कर लिया है |
डॉ लता अग्रवाल – आपने अपने उक्त प्रश्न का उत्तर देते हुए प्रत्येक विराम चिन्ह पर जोर दिया; इसी से एक प्रश्न ज़ेहन में आयालघुकथा बहुत संक्षिप्त में कहने की विधा है। तो क्या इसके सम्प्रेषण में विराम-चिन्हों की कोई भूमिका है ?
चित्रा मुद्गल जी – निश्चित| जब हमें अपनी दृष्टि को शब्दबद्ध करना है, उसके आयामों को भी उसके अंदर समाहित करना है अथवा समाहित करने की चेष्टा करना है तो विराम चिह्न आवश्यक है ताकि वह लघुकथा की बह-आयामिता को समेट सकें, उसे व्याख्यायित कर सकें, कठौती में गंगा की तरह |
डॉ लता अग्रवाल – कहानी और उपन्यास में रचनाकार अपनी कल्पना के घोड़े दौड़ाता है; किन्तु कहते हैंलघुकथा में कल्पना के लिए कोई स्थान नहीं होता। आपकी  इस सम्बन्ध में क्या राय है ?
चित्रा मुद्गल जी – ऐसा नहीं है। कल्पना के बिना यथार्थ को आप रख नहीं सकते | जो सत्य आप देख रहे हैं, जब उसे लिखेंगे तब आप उस स्थान को, उस दृश्य को छोड़ चुके होंगे; साथ ही, जो घट गया है उससे जो एक दृश्य, एक तड़प, एक सम्वेदना आप में उपजती है, उसे लेकर आप उस घटना को मानवीय कल्पना के साथ ही न रचेंगे | तब हमें नहीं पता वह पात्र कहाँ का है? हम लिखते हैं उसके नाम को, उसके स्थान को... उसके परिवेश को रचते हैं; वह हमारी कल्पना ही तो है| हम उस सम्भावना, उस द्वन्द को कल्पना के बल ही रचते हैं जिसे हम नहीं जानते | कल्पना यथार्थ के बगैर एक कदम नहीं चल सकती |
डॉ लता अग्रवाल – लघुकथा में तथ्य और कथ्य के तादात्म्य को आप किस तरह परिभाषित करेंगी ?
चित्रा मुद्गल जी – तथ्य में कथ्य तो रहेगा, मगर कथ्य में तथ्य रचनाशीलता को अलग सरोकारों से लेजाकर जोड़ेगा | तथ्य ही कथ्य नहीं है, वैसे कथ्य ही तथ्य नहीं है | दोनों की अपनी स्वतंत्र सत्ता है, दोनों ही अभिव्यक्ति के लिए बराबर की भूमिका का निर्वाह करते हैं |
डॉ लता अग्रवाल – साहित्य समाज का दर्पण माना जाता है, यह भी कहा जाता है कि दर्पण कभी झूठ नहीं बोलता | फिर किसी कथ्य को सकारात्मक मोड़ देना क्या उस दर्पण पर आवरण डाल देने जैसा नहीं?
चित्रा मुद्गल जी –  तुम्हारे इस प्रश्न को मैं दो भागों में विभाजित करती हूँ | प्रथम – रचनाकार व्यवस्था के जिस प्रभाव से गुजर रहा है, उसका अनुभव; चाहे वह समाज को लेकर हो या व्यक्तिगत को यानी निज को; उसका उद्वेलन जब रचनाकार को लेखन हेतु बेचैन करता है, तो वह कभी यह नहीं सोचता कि उसे दुखांत लिखना है या सुखांत | लेखन नहीं चुनता कि मुझे सुखांत होना है या दुखांत | यदि वह रचनाकार है तो मान्यता की चादर ओढ़कर उसके अनुशासन में कभी बंधकर नहीं लिखेगा |
द्वितीय -  दर्पण की बात; जो समाज में घट रहा है वह साहित्य में भी घट रहा है, लेखक का दायित्व है कि उसके आगे जाकर सृजन करे, उसे समाज से जोड़े| सम्भावना तलाश करे, अपवाद ही सही, अगर वह सत्य है तो बयाँ किया जा सकता है क्योंकि कथा तो वहाँ भी बनती है|                                          डॉ लता अग्रवाल – लघुकथा में आप संवेदना को कितना आवश्यक मानती हैं ?
चित्रा मुद्गल जी – सम्वेदना के बिना लघुकथा अपने सम्प्रेषण को पूरी तरह से नहीं जी सकती | मानवीय मनोविज्ञान के आधार पर रचनाकार एक बेहतर समाज की कल्पना करता है  और बेहतर समाज सम्वेदना के बिना असम्भव है |
डॉ लता अग्रवाल – वर्तमान में लघुकथा के क्षेत्र में स्त्री लघुकथाकार और स्त्री लेखन पर आपके विचार जानना चाहूँगी ?
चित्रा मुद्गल जी – यद्यपि दोनों अलग-अलग प्रश्न हैं किन्तु इस सम्बन्ध में मेरा एक ही उत्तर पर्याप्त होगा। आज मुझे एहसास हो रहा है कि स्त्रियाँ अपनी गृहस्थी की जद्दोजहद में लगी होकर भी अपनी सृजनात्मकता की तड़प लघुकथा विधा को सौंप रही हैं| इतनी बड़ी मात्रा में स्त्रियों का एक साथ इस परिमाण में आना मैं मानती हूँ बहुत-बहुत शुभ संकेत हैं |
डॉ लता अग्रवाल – लघुकथा में क्या नये पिलर खड़े किये जाने की आवश्यकता आप महसूस करती हैं ?
चित्रा मुद्गल जी – नये पिलरों, नई भितियों, स्तम्भों की हमेशा से ही आवश्यकता रही है और रहेगी, अन्यथा लघुकथा एक सीमा तक बढ़ने के बाद काल कवलित हो जाएगी| इसलिए निरंतर नई पीढ़ी को सक्रिय होना चाहिए, उनका स्वागत होना चाहिए| बस उन्हें लघुकथा और चुटकुलों के अंतर को गंभीरता से जानने की आवश्यकता है| वो पढ़ें, अपने वरिष्ठ साहित्यकारों के लेखन से मार्गदर्शन लें, उन्हें अमृतलाल नागर, प्रभाकर श्रोत्रिय, राजेन्द्र यादव आदि को पढ़ना चाहिए कि कैसे सामाजिक सरोकारों को उन्होंने लघु दायरे में समेटा है ताकि वे चेतना सम्पन्न हो सकें | विधा की सशक्तता को समझते हुए उन्हें अपने दृश्य, कल्पनाशीलता सृजनात्मकता के अनुसार उसे रचना होगा |
डॉ लता अग्रवाल – लेखन अन्तस् की प्रेरणा से उपजता है, आप इस बात से कितनी सहमति रखती हैं ?
चित्रा मुद्गल जी - तुम्हारे इस सवाल को लता, मैं इस तरह कहना चाहूँगीजो लेखक है, वह अपने इर्द–गिर्द का कार्यक्षेत्र जहाँ लम्बा समय बीतता हैपरिचित, अपरिचित चेहरों को अपने सामने उधड़ता हुआ देखता है तो उसे अचरज होता है , कितने चेहरे हैं जिन्हें पढकर वह चकित हो जाता है, यह मनोविज्ञान उसे उद्वेलित करता है लिखने को। जिस यथार्थ से उसका सामना होता है वह उसकी चेतना को सन्निध करता है उसके खिलाफ लिखने के लिए|  लेखक को प्रेरणा वो चीखें देती हैं, वह मनोविज्ञान देता है, उसके अपने  अनुभव के माध्यम से उसके शब्द उसे पुकारते हैं जो उसे कलम उठाने को विवश कर देते हैं| और आपने वो दुनिया नहीं देखी है उसमें रहने वाले लोगों को नहीं देखा है तो आपकी अन्तस् प्रेरणा कुछ नहीं कर सकती | आपका लेखन भी पाठकों के दिलों को प्रभावित नहीं कर सकता | लेखन ऐसा हो कि पाठक कहे कि आपने तो उसके दिल की बात कह दी |
डॉ लता अग्रवाल – शिल्प लघुकथाकार का स्वतंत्र लोकतंत्र है अर्थात कथाकार अपने कहन के लिए कोई भी शैली, कोई भी शिल्प चुन सकता है। क्या आप इसके लिए कोई नियम आवश्यक मानती हैं ?
चित्रा मुद्गल जी – नहीं; इसमें कोई नियम नहीं। आप किसी दृश्य से छोटी-सी बात को बहुत गहराई से व्यक्त करना चाहते हैं तो वह आप किसी भी शिल्प में लिखें, बस आपके कहन में संवेदना, विषय का गाम्भीर्य, द्वंदात्मकता को संजीदगी के साथ संप्रेषित करने की क्षमता होनी चाहिए, अन्यथा बात बनेगी नहीं। कहाँ किस बात की कितनी जरूरत है वह शिल्प ही तय करेगा| शिल्प अपने आप कोई भी लघुकथा स्वयं तलाशती है कि किस रूप में वह अपनी ढाल को, आवेगात्मकता को संप्रेषित करेगी |  कथाकार को लगता हैवह किस शैली में अपनी बात प्रभावित ढंग से कह सकता है। इसके लिए वह स्वतंत्र है |
डॉ लता अग्रवाल – ऐसे कौन से विषय हैं जिन्हें आप समझती हैं कि वे लघुकथा से अछूते रह गये हैं या फिर उन पर और काम करने की आवश्यकता है ?
चित्रा मुद्गल जी - इधर मैं एक बात बहुत गहराई से महसूस कर रही हूँ, कि  स्त्री–पुरुष सम्बन्ध, भ्रष्टाचार, शोषण, दमन, जनसाधारण के बुनियादी हक़ की पैरवी में बहुत लघुकथाएँ लिखी गई हैं | इसमें संदेह नहीं कि लघुकथा ने विस्तृत फलक को अपने में समेटा है | मुझे लगता है कि जो परिवर्तन समाज, राष्ट्र और वैश्विक स्तर पर हो रहे  हैं, साथ ही जो देश और समाज को प्रभावित कर रहे हैं, जो भूमण्डली करण हो रहा है, इसके चलते उपभोक्तावाद गहरे अपनी जड़ों में स्थान पा रहा है | मेरा आशय  हैहमारे जो परम्परागत मूल्य रहे हैं, परम्परागत संवेदना रही है, रिश्तों की संवेदना रही है उसमें व्यक्तिवादिता प्रवेश कर गई है | वो सम्बन्ध सतही हो गये हैं | जिन माता-पिता ने अपनी जीवन-पूंजी खोकर बच्चों के जीवन को संजोया, उन्हीं बच्चों के जीवन में माता-पिता के लिए कोई कोना सुरक्षित नहीं |
यह मानसिक शोषण है, मनोवैज्ञानिक शोषण है। मुझे लगता है कि इसे और अधिक वैश्विक दबाव, गहराई के साथ प्रस्तुत करने की आवश्यकता है | इस पर परिवक्व और चैतन्य दृष्टि से विचार करने की आवश्यकता है| आज जिन सांस्कृतिक मूल्यों का ह्रास हो रहा है, सभ्यता और परम्परा के टूटने की कगार पर जो हम खड़े हुए हैं, इस पर गहराई से सोचने की आवश्यकता है |
दूसरी चीज है - आर्मी, एयरफोर्स, सैनिक जीवन पर, उसने कहा था या शैलैश  मटियानी की कुछ कहानियां हैं जो सैनिक जीवन को लेकर लिखी गईं हैं, मगर लघुकथा में अभी नहीं के बराबर काम हुआ है। आवश्यकता है उनके व्यक्तित्व और कृतित्व, उनकी पत्नी, परिवार, बच्चों के जीवन की जटिलताओं को लेकर लघुकथा लिखी जानी चाहिए | अपनी मुट्ठी में सूर्य को उतारने की क्षमता रखती है लघुकथा |  मुझे लगता है हम इस बहाने समाज को उनके जीवन की गहराई से जोड़ सकेंगे | ऐसे लघुकथाकार जो इस जीवन से परिचित हैं वे लिखें। कहीं न कहीं लघुकथा के अनुभव विस्तार, उसकी सर्वंगीनता के लिए यह बहुत आवश्यक है |
डॉ लता अग्रवाल – लघुकथा चरित्रांकन है या चित्रांकन अथवा दोनों ?
चित्रा मुद्गल जी – लघुकथा सब-कुछ है। कोई लघुकथा ऐसी हो सकती है जिसमें चरित्रांकन है, कोई ऐसी हो सकती है जो चित्रांकन हो, या दोनों भी; इसे किसी परिधि में बंधकर मैं नहीं देखती | यह तो रचनाकार की प्रयोगधर्मिता एवं रचनाशीलता  पर निर्भर है |
डॉ लता अग्रवाल – साहित्य का एक प्रयोजन अर्थ प्राप्ति भी है। जिस तरह कविता, ग़जल के लिए व्यावसायिक मंच हैं क्या लघुकथा को वह मुकाम हासिल हो पायेगा ?
चित्रा मुद्गल जी - क्यों नहीं, बिलकुल हो सकता है | हमने कभी कोशिश नहीं की| कवि सम्मेलन की तरह गाँव - गाँव, शहर–शहर लघुकथा सम्मेलन किये जायँ, उसकी रिपोर्टिंग हो तो आप देखिये आयोजक इस ओर लालायित होंगे; कुछ स्पांसर भी मिल ही जायेंगे जो लघुकथाकार के आने-जाने का भत्ता तो निकाल ही लेंगे |
हाल ही में इंदौर के कार्यक्रम में उद्घाटन सत्र में जब हम मंचासीन थे सभी को १५ मिनिट दिए थे | किसी ने कहानी, किसी ने उपन्यास के अंश सुनाये | मेरे समय मैंने उन्हें कहामैं १५ मिनिट नहीं, केवल ३ मिनिट लूंगी और मैंने अपनी लघुकथा ‘बयान’ सुनाई। सब स्तब्ध थे | कहने का तात्पर्यहमें समझना होगा कि लघुकथा सामर्थ्य में कहीं से कम नहीं, उसकी ताकत कहानी, कविता, उपन्यास अंश… किसी से कम साबित नहीं हुई |
डॉ लता अग्रवाल – कभी कभी देखने में आता है कि अच्छी, पकी लघुकथा उचित शीर्षक के अभाव में निष्प्रभावी हो जाती है | इसके लिए लघुकथाकार क्या करे ? इस सम्बन्ध में आपका मार्गदर्शन चाहूंगी |
चित्रा मुद्गल जी – लघुकथाकारों से मेरा कहना है कि अगर आप लघुकथा रच सकते हो तो शीर्षक क्यों नहीं रच सकते | सोचियेएक, दो, तीन बार… कोई न कोई शीर्षक आप बना ही लेंगे जो उस लघुकथा को दृष्टि दे |
डॉ लता अग्रवाल – लघुकथा के भविष्य को लेकर कुछ संदेश देना चाहेंगी ?
चित्रा मुद्गल जी – यही कि लघुकथा सहज हो सकती है मगर इसकी सृजन प्रक्रिया बहुत गम्भीर है | लघुकथा का जमाना न कभी लदा था न कभी लदेगा | आज लघुकथा अपने सीमितता से बाहर निकलकर आ रही है | शीघ्र ही यह विधा अपनी समृद्धता के साथ परचम लहराएगी |                                    साक्षात्कार कर्ता—डॉ लता अग्रवाल, 73, यश विला भवानी धाम, फेस-1, नरेला शंकरी, भोपाल–462041 / मो – 9926481878 

Thursday, 11 January, 2018

थोड़े में बहुत कुछ कहने की जिम्मेदारी है लघुकथाकार की : डॉ. शैलेन्द्र कुमार शर्मा

मित्रो,
विक्रम विश्वविद्यालय के प्राध्यापक एवं कलानुशासक प्रो. शैलेन्द्र कुमार शर्मा का एक साक्षात्कार प्रतिष्ठित युवा लघुकथाकार श्री संतोष सुपेकर ने वर्ष 2012 में लिया था और अविराम साहित्यकी के उसी वर्ष प्रकाशित लघुकथा विशेषांक (अतिथि संपादक डॉ. बलराम अग्रवाल) में प्रकाशित हुआ था। फेसबुक के माध्यम से आप सबके साथ हम उसे साझा कर रहे हैं।उमेश महादोषी, संपादक : अविराम साहित्यिकी

संतोष सुपेकर : सहस्रों वर्ष लम्बी लघुकथा परम्परा में इस विधा की शर्तें कमोबेश तय हो चुकने के बावजूद,डॉ. गोपाल राय द्वारा लिखित हिन्दी कहानी का इतिहास में लघुकथा को कथा-साहित्य के नौ पदों में से एक स्वीकारने जैसी उपलब्धि के बाद भी एक विधा के रूप में लघुकथा को स्थान देने या न देने के प्रश्न क्यों उठते रहते हैं?

डॉ. शैलेन्द्र कुमार शर्मा
संतोष सुपेकर
शै. कु. शर्मा : लघुकथा एक स्वतंत्र और स्वायत्त विधा के रूप में स्थापित हो चुकी है। हमारे वृहत् जीवनानुभवों की संक्षिप्त, सुगठित किन्तु तीक्ष्ण अभिव्यक्ति का नाम लघुकथा है। यह वर्णन या विवरण के बजाय संश्लेषण में विश्वास करने वाली साहित्यिक विधा है, जिसकी परिणति प्रायः विस्फोटक होती है। बीसवीं सदी के अंत तक आते-आते इस विधा ने नए-नए अनुभव क्षेत्रों और अभिव्यक्तिगत आयामों को छूते हुए अपनी विलक्षण पहचान बना ली है। शैलीगत परिमार्जन के बाद लघुकथा का स्वरूप अब और अधिक स्पष्ट और सुसंयत होता जा रहा है। ऐसे दौर में लघुकथाकारों का दायित्व भी बढ़ा है। उन्हें लघुकथा परम्परा में आए बदलावों को लक्षित कर अपनी पहचान बनानी होगी। इसके साथ सम्पादकों का भी दायित्व बनता है कि वे उन्हीं लघुकथाओं को स्थान दें, जो इसकी परम्परा को समृद्ध करती हैं। अन्यथा कमजोर लघुकथाओं के लेखन/प्रकाशन से यह प्रश्न बारम्बार उभरता रहेगा कि इसे स्वतंत्र विधा माना जाये या नहीं? कभी बिहारी के दोहों के लिए कहा गया था, ‘‘सतसैया के दोहरे, ज्यों नावक के तीर। देखन में छोटे लगें घाव करें गंभीर।’’ यह बात आज की लघुकथाओं पर खरी उतर रही है। इसे शुभ संकेत माना जा सकता है।
संतोष सुपेकर : लघुकथा शब्द का नामकरण कब और कैसे हुआ? बीसवीं सदी के प्रारंभ में लिखी गईं लघुकथाएँ क्या लघुकथा नाम से ही प्रकाशित होती थीं?
शै. कु. शर्मा : दृष्टांत, नीति या बोध कथा के रूप में लघुकथाओं का सृजन अनेक शताब्दियों से होता आ रहा है। मूलतः दृष्टांतों के रूप में लघुकथाएँ विकसित हुईं। इस प्रकार के दृष्टांत नैतिक और धार्मिक दोनों क्षेत्रों में प्राप्त होते हैं। नैतिकतापरक लघुकथाओं में हम पंचतंत्र, हितोपदेश, महाभारत, बाइबिल, जातक, ईसप आदि की कथाओं को रख सकते हैं। इसी प्रकार धार्मिक दृष्टांतों के रूप में भी देश-विदेश में लघुकथाओं के अनेक उदाहरण उपलब्ध हैं। इधर आधुनिक युग में लघुकथा नामकरण काफी बिलंब से हुआ है, किन्तु यह तय बात है कि इस नए अवतार में लघुकथा ने शताब्दियों की यात्रा दशकों में तय कर ली है।
लघुकथा शब्द मूल रूप में अंग्रेजी के शार्ट स्टोरी का सीधा अनुवाद है, किन्तु इसके तौल का एक और शब्द कहानी हिन्दी में रूढ़ हो चुका है। इधर कहानी और लघुकथा-दोनों अपनी अलग पहचान बना चुकी हैं। लघुकथा को कहानी का सार या संक्षिप्त रूप मानना उचित नहीं होगा। लघुकथा बनावट और बुनावट में कहानी से अपना स्वतंत्र अस्तित्व और महत्व रखती है। आधुनिक काल में हिन्दी लघुकथा की शुरूआत सन् 1900 के आसपास मानी जा सकती है। माखनलाल चतुर्वेदी की बिल्ली और बुखार को पहली लघुकथा माना जा सकता है। इस श्रृंखला में माधवराव सप्रे, प्रेमचंद, जयशंकर प्रसाद से लेकर जैनेन्द्र, अज्ञेय तक कई महत्वपूर्ण नाम जुड़ते चले गए। प्रेमचंद ने अपने सृजन के उत्कर्षकाल में कई लघुकथाएँ लिखीं, जैसे नशा, मनोवृत्ति, दो सखियाँ, जादू आदि। प्रसाद की गुदड़ी के लाल, अघोरी का मोह, करुणा की विजय, प्रलय, प्रतिमा, दुखिया, कलावती की शिक्षा आदि लघुकथा के अनूठे उदाहरण हैं। बंगला साहित्य में भी टैगोर, बनफूल ने महत्वपूर्ण लघुकथाएँ रचीं हैं। हिन्दी में सुदर्शन, रावी, कन्हैयालाल मिश्र प्रभाकर, रांगेय राघव आदि ने मार्मिक लघुकथाएँ लिखीं। बाद में इस धारा में कई और नाम जुड़ते चले गए-उपेन्द्रनाथ अश्क, हरिशंकर परसाईं, शरद जोशी, नरेन्द्र कोहली, लक्ष्मीकान्त वैष्णव, संजीव, शंकर पुणताम्बेकर, बलराम, डॉ. सतीशराज पुष्करणा, डॉ. सतीश दुबे, सतीश राठी, जगदीश कश्यप, डॉ. बलराम अग्रवाल, डॉ. कृष्ण कमलेश, कमल गुप्त, विक्रम सोनी, भगीरथ, रमेश बतरा, डॉ. श्यामसुंदर व्यास, पारस दासोत, सूर्यकांत नागर, कमल चोपड़ा, सुकेश साहनी, संतोष सुपेकर, राजेन्द्र नागर निरंतर आदि। शुरुआती दौर में लघुकथा जैसी स्वतंत्र संज्ञा अस्तित्व में नहीं आई थी, धीरे-धीरे यह संज्ञा कहानी से बिलगाव बताने के लिए प्रचलित और स्थापित हुई है। कुछ लोगों ने लघुकथा के अतिरिक्त नई संज्ञाएं या विशेषण देने की भी कोशिश की, जैसे मिनी कहानी, मिनीकथा, कथिका, अणुकथा, कणिका, त्वरितकथा, लघुव्यंग्य आदि; लेकिन ये संज्ञाएँ पानी के बुलबुले के समान बहुत कम समय में निस्तेज हो गईं।
संतोष सुपेकर : आपने कहीं कहा है कि अतिशय स्पष्टीकरण लघुकथा की मारक क्षमता को कम करता है। अपने इस कथन के संदर्भ में लघुकथा के आकार पर प्रकाश डालें। यह भी बताएँ कि क्या रचना का कुछ भाग, जो लेखक कहना चाहता है, पाठक को सोचने के लिए छोड़ दिया जाए, अलिखित?
शै. कु. शर्मा : निश्चय ही मितकथन लघुकथा की अपनी मौलिक पहचान है। अतिशय स्पष्टीकरण या वर्णन के लिए लघुकथा में अवकाश नहीं है। आकार की दृष्टि से लघुकथा को शब्द या पृष्ठों की गणना में बाँधना संभव नहीं है। अनुभूति की सघनता, शब्दों की मितव्ययता, सुगठित बनावट और लघुता-इसे विलक्षण बनाती है। वैसे तो लघुकथा के लिए कोई सुनिश्चित फार्मूला बनाना इसके साथ अन्याय होगा, फिर भी यह तय बात है कि रचना का कुछ भाग, जो लेखक कहना चाहता है, पाठक के लिए छोड़ दिया जाए तो बेहतर होगा।
संतोष सुपेकर : ऐसा कहा गया है कि लघुकथा का शीर्षक तो दूर पहाड़ी पर बने मंदिर के समान होना चाहिए। इस संदर्भ में लघुकथा में शीर्षक की भूमिका पर अपने विचार बताएँ।
शै. कु. शर्मा : किसी भी अन्य विधा की तुलना में लघुकथा के शीर्षक की अपनी विलक्षण भूमिका होती है। कहीं यह उसके मूल मर्म को संप्रेषित करता है, तो कहीं उसके संदेश को। कहीं वह अप्रत्यक्ष रूप से लघुकथा के कथ्य का विस्तार करता है। इसका शीर्षक देना अपने आप में चुनौती भरा काम है। इसमें सर्जक से अतिरिक्त श्रम की अपेक्षा होती है।
संतोष सुपेकर : एक कथ्य, जो लघुकथा में माध्यम बनता है, कहानी में अपना प्रभाव खो देता है, आप क्या कहना चाहेंगे?
शै. कु. शर्मा : निश्चय ही किसी भी विधा या रूप का रचाव कथ्य की जरूरतों पर निर्भर करता है। इसलिए जो कथ्य लघुकथा के अनुरूप होता है, वह कहानी या किसी भी दूसरी विधा में जाकर अपना प्रभाव खो देगा।
संतोष सुपेकर : प्रेमचंद के अनुसार अतियथार्थवाद निराशा को जन्म देता है। आज की लघुकथाओं में छाया अतियथार्थवाद क्या पाठक को निराश कर रहा है?
शै. कु. शर्मा : आज की लघुकथाएँ हमारे वैविध्यपूर्ण जीवनानुभवों को मूर्त कर रही हैं। आज का पाठक सभी प्रकार की लघुकथाओं से गुजरते हुए अपनी संवेदनाओं का विकास करता है। केवल निराश होने जैसी कोई बात नहीं है।
संतोष सुपेकर : डॉ. कमल किशोर गोयनका के अनुसार लघुकथा एक लेखकहीन विधा है। क्या लघुकथाकार को हमेशा रचना में अनुपस्थित ही होना चाहिए?
शै. कु. शर्मा : लघुकथा को लेखकहीन विधा कहना उचित नहीं है। एक ही कथ्य को लघुकथा में दर्ज करने का हर लेखक का अपना ढंग होता है। श्रेष्ठ लघुकथाओं में लेखक की उपस्थिति सहज ही महसूस की जा सकती है।
संतोष सुपेकर : फ्लैश/कौंध रचनाओं (चौंकाने वाली) को कुछ विद्वान अगंभीर लघुकथा लेखन मानते हैं, जबकि कुछ इसके पक्ष में हैं। हरिशंकर परसाईं ने एक साक्षात्कार में कहा था कि लघुकथा में चरम बिंदु का महत्व होना ही चाहिए, आपकी राय?
शै. कु. शर्मा : चौंकाने वाली लघुकथाएँ भी समकालीन लघुकथा लेखन को एक खास पहचान देती हैं। इन्हें अगंभीर लेखन मानना उचित नहीं है। लघुकथा में चरम या समापन बिन्दु की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। इससे लघुकथा का निहितार्थ असरदार ढंग से पाठक तक पहुँचता है।
संतोष सुपेकर : लघुकथा में क्या पद्यात्मक पंक्तियों की गुंजाइश है? ऐसी आवश्यकता महसूस हो तो लेखक क्या करे?
शै. कु. शर्मा : लेखकीय आवश्यकता के अनुरूप या अन्य प्रकार के प्रयोगों के लिए लघुकथा में पर्याप्त गुंजाइश है। ये सारे प्रयोग अंततः लघुकथा की सम्प्रेषणीयता में साधन ही बन सकते हैं, यही इनकी सार्थकता है।
संतोष सुपेकर : लघुकथा को और सशक्त होने के लिए क्या आवश्यक मानते हैं- संकलनों का प्रकाशन, समीक्षा गोष्ठियों, लघुकथा सम्मेलनों का आयोजन, रचनात्मक आन्दोलन या कुछ और?
शै. कु. शर्मा : वर्तमान दौर में लघुकथाएँ बड़े पैमाने पर लिखी जा रही हैं। कुछ रचनाकार इसे बेहद आसान रास्ते के रूप में चुन रहे हैं। इसीलिए कई ऐसी रचनाएँ भी आ रही हैं, जिन्हें लघुकथा कहना उचित नहीं लगता है। वे महज हास-परिहासनुमा संवाद या किस्सों से आगे नहीं बढ़ पाती हैं। इसलिए जरूरी है कि लघुकथा सृजन की कार्यशालाएँ समय-समय पर आयोजित हों, जहाँ इस विधा से जुड़े वरिष्ठ सर्जक और विद्वान भी जुटें। श्रेष्ठ रचनात्मकता के लिए महज आंदोलनधर्मिता से कुछ नहीं हो सकता है। इसके लिए गंभीर प्रयास जरूरी हैं। लघुकथा कार्यशाला, परिसंवाद, समीक्षा गोष्ठी, सम्मेलन और प्रकाशन-इन सभी की सार्थक भूमिका हो तो बात बने।
संतोष सुपेकर : कथ्य चयन, कथ्य विकास तथा भाषा-शैली क्या कहानी की तुलना में लघुकथा में अतिरिक्त सावधानी की माँग करते हैं?
शै. कु. शर्मा : कथ्य चयन, उसका विकास और अभिव्यक्ति के उपादान-सभी दृष्टियों से लघुकथा क्षणों में बँटे जीवन के कोमल और खुरदरे यथार्थ की निर्लेप और संक्षिप्त अभिव्यक्ति होती है। इसलिए थोड़े में बहुत कहने की जिम्मेदारी एक लघुकथाकार की होती है। कहानीकार इससे मुक्त हो सकता है, लघुकथाकार नहीं।
संतोष सुपेकर : श्रेष्ठ विधा वही है जो कागज पर खत्म होने के बाद पाठक के मस्तिष्क में प्रारम्भ हो और उसे सोचने के लिए विवश करे। इस कथन के मद्देनजर विषयवस्तु का दोहराव क्या लघुकथा के विकास में बाधक बन रहा है?
शै. कु. शर्मा : निश्चय ही लघुकथा के सामने एक बड़ी चुनौती उसके दीर्घकालीन और सघन प्रभाव से जुड़ी हुई है। लघुकथाकारों को अपने अनुभव क्षेत्र को विस्तार देते हुए सृजनरत रहना चाहिए अन्यथा विषयवस्तु का दोहराव लघुकथा के विकास में बाधक बना रहेगा।
संतोष सुपेकर : हिंदी लघुकथा के भविष्य को लेकर आप क्या सोचते हैं?
शै. कु. शर्मा : किसी भी अन्य विधा की तुलना में लघुकथा का भविष्य अधिक उज्ज्वल है। समय के अभाव और जनसंचार माध्यमों के अकल्पनीय विस्तार के बीच लघुकथा के लिए पर्याप्त स्पेस अब भी बना हुआ है। इस स्पेस को पहचानकर लघुकथाकार उसका बेहतर उपयोग करेंगे, ऐसी आशा व्यर्थ न होगी।
संतोष सुपेकर : प्रतीकात्मक लघुकथाओं पर अपने विचार बताएँ?
शै. कु. शर्मा : लघुकथाओं में प्रतीकों की विशिष्ट भूमिका होती है। सार्थक प्रतीक-प्रयोग से रचनाकार अपनी रचना को देशकाल के कैनवास पर वृहत्तर परिप्रेक्ष्य दे सकता है।

संपर्क-डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा, आचार्य एवं कुलानुशासक, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन-456010 (म.प्र.)
-संतोष सुपेकर, 31, सुदामा नगर, उज्जैन (म.प्र.)